» गुरु शिष्य की मर्यादा 

गुरु शिष्य की मर्यादा

 
गुरु शिष्य की मर्यादाInformation related to गुरु शिष्य की मर्यादा.

ज्ञान किसको मिलता है ? जो श्रद्धाभाव से शरणागत हो और अपना आप समर्पित करके गुरु के समक्ष कहे कि मुझे ज्ञान दें, तभी तत्व - दर्शन होता है। दूसरी मर्यादा यह कि जब गुरु तुम्हें ज्ञान समाप्त करे माने पूर्णाहुति करें तो शिष्य होने के नाते गुरु - चरणों में भेंट समर्पित करे। भेंट क्या हो ? जो वस्तु तुम्हें सब से प्रिय हो वही भेंट करो।

Like this Post :
Comment
 
Name:
Email:
Comment:
Upcoming Events
Prashnawali

Ganesha Prashnawali

Ma Durga Prashnawali

Ram Prashnawali

Bhairav Prashnawali

Hanuman Prashnawali

SaiBaba Prashnawali
 
 
Free Numerology
Enter Your Name :
Enter Your Date of Birth :
 
Dream Analysis
Dream
  like Wife, Mother, Water, Snake, Fight etc.
 
Copyright © MyGuru.in. All Rights Reserved.
Site By rpgwebsolutions.com