Subscribe for Newsletter
Chhath Puja~छठ पूजा

THE SUN WORSHIP FESTIVAL (CHHATH)

ChhathPuja is a festival of reverence to the solar deity, the only festival in the world where devotees offer salutations to the setting and rising Sun.  Chhath puja is performed on Kartik Shukla Shashti i.e. the 6th day of the month of  Kartik in the Hindu Calendar, exactly 6 days after Deepawali. This falls around the month of October-November as per the Gregorian calendar. A week after Diwali, the festival of lights, comes the festival Chhath. For one night and day, the people practically live on the banks of a river or any other water body in the neighbourhood where a ritual offering is made to the Sun god.The word  Chhath denotes the number six and thus the name itself serves as a reminder of this auspicious day on the festival almanac. The venue for this unique festival is the riverbank and since the Ganges traverses the countryside of Bihar, Uttar Pradesh and Bengal in India like a lifeline, it is but appropriate that the banks of this river should be the ideal prayer location. Chhathis considered a means to thank the Sun for bestowing the bounties of life on earth as also for fulfilling particular wishes. Chhathis a Hindu festival but many Muslim families also participate in this holy festival in certain places.

=========================================================================

छठ पर्व या छठ कार्तिक शुक्ल की षष्ठी को मनाया जाने वाला एक हिन्दू पर्व है। सूर्योपासना का यह अनुपम लोकपर्व मुख्य रूप से पूर्वी भारत के बिहारझारखण्ड, पूर्वी उत्तर प्रदेश और नेपाल के तराई क्षेत्रों में मनाया जाता है। 

छठ पर्व को सूर्य षष्ठी का व्रत करने का विधान है । इसे करने वाली स्त्रियाँ धन-धान्य, पति-पुत्र तथा सुख-समृद्धि से परिपूर्ण रहती हैं। यह व्रत बडे नियम तथा निष्ठा से किया जाता है। इसमे तीन दिन के कठोर उपवास का विधान है । इस व्रत को करने वाली स्त्रियों को पंचमी को एक बार नमक रहित भोजन करना पडता है। षष्ठी को निर्जल रहकर व्रत करना पडता है । षष्ठी को अस्त होते हुए सूर्य को विधिपूर्वक पूजा करके अर्घ्य देते हैं। सप्तमी के दिन प्रात:काल नदी या तालाब पर जाकर स्नान करती हैं। सूर्योदय होते ही अर्घ्य देकर जल ग्रहण करके व्रत को खोलती हैं।

सूर्यषष्ठी-व्रतके अवसरपर सायंकालीन प्रथम अर्घ्यसे पूर्व मिट्टीकी प्रतिमा बनाकर षष्ठीदेवीका आवाहन एवं पूजन करते हैं। पुनः प्रातः अर्घ्यके पूर्व षष्ठीदेवीका पूजन कर विसर्जन कर देते हैं। मान्यता है कि पंचमीके सायंकालसे ही घरमें भगवती षष्ठीका आगमन हो जाता है। इस प्रकार भगवान्‌ सूर्यके इस पावन व्रतमें शक्ति और ब्रह्म दोनोंकी उपासनाका फल एक साथ प्राप्त होता है । इसीलिये लोकमें यह पर्व ‘सूर्यषष्ठी’ के नामसे विख्यात है।

सूर्यषष्ठी-व्रतके प्रसादमें ऋतु-फलके अतिरिक्त आटे और गुडसे शुद्ध घीमें बने ‘ठेकुआ’ का होना अनिवार्य है; ठेकुआपर लकडीके साँचेसे सूर्यभगवान्‌के रथका चक्र भी अंकित करना आवश्यक माना जाता है। इस व्रत का प्रसाद माँगकर खानेका विधान है।

इस पर्व के संबंध में कई कहानियां प्रचलित हैं। एक कथा यह है कि लंका विजय के बाद जब भगवान राम अयोध्या लौटे तो दीपावली मनाई गई। जब राम का राज्याभिषेक हुआ, तो राम और सीता ने सूर्य षष्ठी के दिन तेजस्वी पुत्र की प्राप्ति के लिए सूर्य की उपासना की। इसके अलावा एक कथा यह भी है कि सूर्य षष्ठी को ही गायत्री माता का जन्म हुआ था। इसी दिन ऋषि विश्वामित्र के मुख से गायत्री मंत्र फूटा था। पुत्र की प्राप्ति के लिए गायत्री माता की भी उपासना की जाती है। 

एक प्रसंग यह भी है कि अपना राजपाट खो चुके जंगलों में भटकते पांडवों की दुर्दशा से व्यथित दौपद्री ने सूर्यदेव की आराधना की थी। 

 

 

 

Chhath Puja~छठ पूजा Quotes

 
 
 
Comments:
Articles
 
 
 
 
 
 


Vegetarian Recipes
  Idli
Find More
Copyright © MyGuru.in. All Rights Reserved.
Site By rpgwebsolutions.com