Subscribe for Newsletter
Sheetla Ashtami~शीतला अष्टमी

sheetla mata, shitla ashtami, basoda festival, sheetla aarti

 

शीतला अष्टमी हिन्दुओं का एक महत्वपूर्ण पर्व है, जिसमें शीतला माता का व्रत एवं पूजन किया जाता है. शीतलाष्टमी का पर्व होली के सम्पन्न होने के कुछ दिन पश्चात मनाया जाता है. देवी शीतला की पूजा चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि से आरंभ होती है.


शीतला माता । Shitala mata

शीतला माता एक प्रमुख हिन्दू देवी के रूप में पूजी जाती है. अनेक धर्म ग्रंथों में शीतला देवी के संदर्भ में वर्णित है, स्कंद पुराण में शीतला माता के विषय में विस्तार पूर्वक वर्णन किया गया है, जिसके अनुसार देवी शीतला चेचक जैसे रोग कि देवी हैं, यह हाथों में कलश, सूप, मार्जन(झाडू) तथा नीम के पत्ते धारण किए होती हैं तथा गर्दभ की सवारी किए यह अभय मुद्रा में विराजमान हैं. 


शीतला माता के संग ज्वरासुर-ज्वर का दैत्य, हैजे की देवी, चौंसठ रोग, घेंटुकर्ण- त्वचा-रोग के देवता एवं रक्तवती देवी विराजमान होती हैं इनके कलश में दाल के दानों के रूप में विषाणु या शीतल स्वास्थ्यवर्धक एवं रोगाणु नाशक जल होता है. स्कन्द पुराण में इनकी अर्चना स्तोत्र को शीतलाष्टक के नाम से व्यक्त किया गया है. मान्यता है कि शीतलाष्टक स्तोत्र की रचना स्वयं भगवान शिव जी ने लोक कल्याण हेतु की थी. 

Sheetla Ashtami~शीतला अष्टमी Quotes

 
 
 
Comments:
Articles
 
 
 
 
 
 


Vegetarian Recipes
Find More
Copyright © MyGuru.in. All Rights Reserved.
Site By rpgwebsolutions.com