Subscribe for Newsletter
Festival - Papmochani Ekadashi 2018 Date~पापमोचनी एकादशी

The Ekadashi of Krishna Paksha, Chaitra Masa is called the Papamochani Ekadashi. The fast of Papamochani Ekadashi removes all sins of a person and opens the door of heaven for him. Lord Vishnu is worshipped, on this day. Performing the Shodashopachara Puja increase the auspicious effects on this fast. 

Papamochani Ekadashi Fast Method

Lord Vishnu is worshipped in the fast of Ekadashi. Person observing the fast of Papamochani Ekadashi should have Satvik food (meal with no onion and garlic etc.) on the Dashmi Tithi (a day before Ekadasi). The fasting period of Ekadashi Vrat is for 24hours. Hence, a person needs to prepare himself mentally before starting the fast. In the day time of Ekadashi, Lord Vishnu is remembered and meditation is performed. And, Jagran is performed by reading Vishnu Path, in the whole night.

Person observing the fast should wake up at the time of sunrise and complete his routine works. Then, the resolution of fast is taken and Lord Vishnu is worshipped. Now, the person should sit infront of Lord Vishnu’s idol and read the Shrimad Bhagwat Katha. After fasting the whole day, Jagran performed at night, multiplies the auspiciousness of fast results.

Not having any food, in the night of Ekadashi and performing Jagran, increase the virtues of fasting. Person should sacrifice luxury and pleasure, on the day of fast. He should avoid having any sorts of bad thoughts in his mind. On the day of fast, it is must to hear the Vrat Katha. 

On the Dvadashi (a day after Ekadashi), person observing fast should take bath in the early morning, then Lord Vishnu is worshipped and Brahmans are given food and alms. After completing all these thing, food is eaten. This way the fast is concluded. 

Papamochani Fast Story

In the ancient days, there was a forest named Chitrarath. Gandharva girls and Gods, all used to enjoy and frolic here. Once, a Rishi named Medhavi was meditating, in the forest. Then, a nymph named Manjughosa got fascinated by the Rishi. She tried to attract him with her beauty and dance. At that time, Kamdev was also passing from there. Even Kaamdev helped the nymph, in this work. As a result, the fairy was success in breaking the meditation of Rishi. 

After few year, when Rishi came out of the charm and illusion, he remembered that he was performing meditation for Lord Shiva. He blamed the fairy for his condition. And, he cursed the nymph to be a female demon. Hearing the curse, Manjughosa trembled and fell in the feet of Rishi. She asked forgiveness and remedy for this curse. Then, Rishi asked him to observe the fast of Papamochani Ekadashi. Rishi also observed this fast, to get free from his sin. On completion of fast, both of them got rid of their sin.

From that time, a tradition of observing this fast is being carried on. This fast, makes a person free from all his sins, done knowing or unknowingly.

 

 पुराणों के अनुसार चैत्र कृष्ण पक्ष की एकादशी पाप मोचिनी है (Chaitra kirshna paksha Ekadashi know as Papmochani Ekadashi) अर्थात पाप को नष्ट करने वाली. स्वयं भगवान श्री कृष्ण ने इसे अर्जुन से कहा है.

 पाप मोचनी एकादशी व्रत कथा (Papmochni Ekadasi Vrat Katha)

कथा के अनुसार भगवान अर्जुन से कहते हैं, राजा मान्धाता ने एक समय में लोमश ऋषि से जब पूछा कि प्रभु यह बताएं कि मनुष्य जो जाने अनजाने पाप कर्म करता है उससे कैसे मुक्त हो सकता है. राजा मान्धाता के इस प्रश्न के जवाब में लोमश ऋषि ने राजा को एक कहानी सुनाई कि चैत्ररथ नामक सुन्दर वन में च्यवन ऋषि के पुत्र मेधावी ऋषि तपस्या में लीन थे. इस वन में एक दिन मंजुघोषा नामक अप्सरा की नज़र ऋषि पर पड़ी तो वह उनपर मोहित हो गयी और उन्हें अपनी ओर आकर्षित करने हेतु यत्न करने लगी. कामदेव भी उस समय उधर से गुजर रहे थे कि उनकी नज़र अप्सरा पर गयी और वह उसकी मनोभावना को समझते हुए उसकी सहायता करने लगे. अप्सरा अपने यत्न में सफल हुई और ऋषि कामपीड़ित हो गये.

 काम के वश में होकर ऋषि शिव की तपस्या का व्रत भूल गये और अप्सरा के साथ रमण करने लगे. कई वर्षों के बाद जब उनकी चेतना जगी तो उन्हें एहसास हुआ कि वह शिव की तपस्या से विरत हो चुके हैं उन्हें तब उस अप्सरा पर बहुत क्रोध हुआ और तपस्या भंग करने का दोषी जानकर ऋषि ने अप्सरा को श्राप दे दिया कि तुम पिशाचिनी बन जाओ. श्राप से दु:खी होकर वह ऋषि के पैरों पर गिर पड़ी और श्राप से मुक्ति के लिए अनुनय करने लगी.

 मेधावी ऋषि ने तब उस अप्सरा को विधि सहित चैत्र कृष्ण एकादशी का व्रत (Chaitra Krishna Ekadasi Vrat) करने के लिए कहा। भोग में निमग्न रहने के कारण ऋषि का तेज भी लोप हो गया था अत: ऋषि ने भी इस एकादशी का व्रत किया जिससे उनका पाप नष्ट हो गया। उधर अप्सरा भी इस व्रत के प्रभाव से पिशाच योनि से मुक्त हो गयी और उसे सुन्दर रूप प्राप्त हुआ व स्वर्ग के लिए प्रस्थान कर गयी.


पाप मोचनी एकादशी व्रत विधि (Papmochni Ekadasi vrat vidhi): 

पाप मोचनी एकादशी के विषय में भविष्योत्तर पुराण में विस्तार से वर्णन किया गया है। इस व्रत में भगवान विष्णु के चतुर्भुज रूप की पूजा की जाती है। व्रती दशमी तिथि को एक बार सात्विक भोजन करे और मन से भोग विलास की भावना को निकालकर हरि में मन को लगाएं। एकादशी के दिन सूर्योदय काल में स्नान करके व्रत का संकल्प करें। संकल्प के उपरान्त षोड्षोपचार सहित श्री विष्णु की पूजा करें। पूजा के पश्चात भगवान के समक्ष बैठकर भग्वद् कथा का पाठ अथवा श्रवण करें। एकादशी तिथि को जागरण करने से कई गुणा पुण्य मिलता है अत: रात्रि में भी निराहार रहकर भजन कीर्तन करते हुए जागरण करें। द्वादशी के दिन प्रात: स्नान करके विष्णु भगवान की पूजा करें फिर ब्रह्मणों को भोजन करवाकर दक्षिणा सहित विदा करें पश्चात स्वयं भोजन करें.

 
Comments:
 
Sun Sign Details

Aries

Taurus

Gemini

Cancer

Leo

Virgo

Libra

Scorpio

Sagittarius

Capricorn

Aquarius

Pisces
Free Numerology
Enter Your Name :
Enter Your Date of Birth :
Ringtones
Find More
Copyright © MyGuru.in. All Rights Reserved.
Site By rpgwebsolutions.com