Inspiration - (चार रत्न)
if you like this inspirations please share and like it  
Posted on: 22 Dec, 2012
यूनान के महात्मा अफलातून ने मरते समय अपने बच्चों कोबुलाया और कहा - मैं तुम्हें चार-चार रत्न देकर मरना चाहता हूं। आशा है, तुम इन्हें संभालकर रखोगे एवं इन रत्नों से अपना जीवन सुखी बनाओगे।
पहला रत्न मैं क्षमा का देता हूं - तुम्हारे प्रति कोई कुछ भी कहे, तुम उसे विस्मृत करते रहो व कभी उसके प्रतिकार का विचार अपने मन में न लाओ।

निरहंकार का दूसरा रत्न देते हुए समझाया कि अपने द्वारा किए गए उपकार को भूल जाना चाहिए।

तीसरा रत्न है- विश्वास, यह बात अपने हृदयपटल पर अंकित किए रखना कि मनुष्य के बूते कभीकुछ भला-बुरा नहीं होता, जो कुछ होता है वह सृष्टि के नियंता के विधान सेहोता है।

चौथा रत्न है, वैराग्य- यह सदैव ध्यान में रखना कि एक दिन सबको मरना है।
सांसारिक संपत्ति पाकर तो लोग न जाने क्या-क्या करते हैं, लेकिन इन चार रत्नों का अनुसरण कर वे बच्चे तो मानो निहाल ही हो गए।
By: Anonynmus        Back
UPCOMING EVENTS
  Vivah Panchami-2017, 23 November 2017, Thursday
  Mokshda Ekadasi-2017, 30 November 2017, Thursday
  Dattatreya Jayanti-2017, 3 December 2017, Sunday
  Saphala Ekadashi-2017, 13 December 2017, Wednesday
  Merry Christmas-2017, 25 December 2017, Monday
  New Year 2018, 1 January 2018, Monday
Comments:
Sun Sign Details

Aries

Taurus

Gemini

Cancer

Leo

Virgo

Libra

Scorpio

Sagittarius

Capricorn

Aquarius

Pisces
Free Numerology
Enter Your Name :
Enter Your Date of Birth :
Copyright © MyGuru.in. All Rights Reserved.
Site By rpgwebsolutions.com