Subscribe for Newsletter
|| शत्रु परास्त करने का मन्त्र  ||

शत्रु परास्त करने का मन्त्र

मन्त्रः-
“कर सारंग साजि कटि भाथा ।
अरि दल दलन चले रघुनाथा ।।”

मन्त्र की प्रयोग विधि और लाभः-
कहीं पर प्रभु श्री राम की प्रतिमा देखकर इस अनुष्ठान का शुभारम्भ करें ।
एक कमलगट्टा लेकर प्रतिमा के पास जाएं और उनके पाँव में इसे रखकर इस मन्त्र के १००० पाठ करें । पाठ के पश्चात् कमलगट्टा उठा लाएं और कहीं छुपा लें । दूसरे दिन दूसरा कमलगट्टा लेकर पुनः उपरोक्त क्रिया करें और उसी कमलगट्टे के साथ इस कमलगट्टे को रखकर छुपा लें । इसी भाँति ४० दिन करना होगा ।
इस अनुष्ठान की समाप्ति पर आपके पास ४० कमलगट्टे एकत्र हो जाएँगे । इन्हें एकान्त में पीस लें और चूर्ण बना लें । इस चूर्ण में अपनी कनिष्ठा का रक्त, चमेली की जड़ का अर्क मिलाकर पुनः एक बटिका बनाकर केले के पत्ते की छाया में सुखा लें । सुखाने के पहले इसमें आरपार एक छिद्र कर लें ।
जब यह बटिका सूख जाए तो काले सूत के धागे में डाल कर कण्ठ में धारण कर लें । उक्त मन्त्र को जपकर शत्रु के समक्ष जाएं । इस प्रकार से शत्रु को परास्त किया जाता है ।

 
Mantra Collection
Ringtones
Find More
Copyright © MyGuru.in. All Rights Reserved.
Site By rpgwebsolutions.com