Subscribe for Newsletter
Pilgrimage in India -अदभुत धार्मिक स्थल


नवरात्रों में दुर्गा मां के विभिन्न रूपों की आराधना श्रद्धापूर्वककी जाती है। हरियाणा में ही नहीं बल्कि समस्त भारत में स्थित शक्ति स्वरूपाके मंदिरों में भक्तों की भीड उमड आती है। कई मंदिरों में तो श्रद्धालुओं को लंबी कतारों में खडे होकर अपनी बारी का इंतजार करना पडता है। हिन्दू धर्म में त्रिदेवों[ब्रह्मा, विष्णु व महेश] को सबसे बडे देव माना गया है और 33करोड अन्य देवी-देवताओं का भी अस्तित्व बताया गया है। धर्मग्रंथों में वर्णित है कि इन सभी की शक्ति का स्त्रोत शक्ति स्वरूपाआदि शक्ति मां दुर्गा ही हैं जिनके तेज से सूर्य चमकता है और सृष्टि में जीवन का संचार हो रहा है। कितनी बार दुर्गा माता के अनेक रूपों ने संसार पर आने वाली विपदाओं को दूर किया है, इसीलिए उन्हें जगकल्याणी कहा जाता है।

शक्ति स्वरूपामां दुर्गा के प्रति संपूर्ण भारत के निवासियों की अगाध आस्था है। भारतवर्ष के विभिन्न भागों में बने मां दुर्गा के भव्य मंदिरों में उमडने वाली भीड मां के प्रति श्रद्धालुओं की अगाध आस्था, अटूट विश्वास एवं अनन्य भक्ति भावना को प्रकट करती है।

हरियाणा में भी दुर्गा माता के अनेक प्राचीन धाम और दर्शनीय मंदिर स्थापित हैं जिनमें श्रद्धालु मन्नत मांगने काफी संख्या में नित्य जाते रहते हैं। हरि के प्रदेश हरियाणा के प्रसिद्ध शहर रेवाडीमें बारह हजारी मोहल्ले में वर्ष 1962में बने मां दुर्गा मंदिर की भव्यता देखते ही बनती है। इसमें स्थापित प्रतिमाएं जहां मुंहबोलतीप्रतीत होती हैं, वहीं इसके भवन की शान अलग ही दिखती है। मां दुर्गा के मंदिर में जब श्रद्धालु जयकारे लगाते हुए चलते हैं तो मंदिर का वातावरण भक्ति से सराबोर हो जाता है। श्रद्धालुओं का मानना है कि मां दुर्गा के इस मंदिर में मां दुर्गा के त्रिशूल पर जो भी व्यक्ति सच्चे मन से धागा बांधता है उसे मां की कृपा अवश्य प्राप्त होती है। नि:संतान दंपति दुर्गा मां का आशीर्वाद पाने के लिए यहां अक्सर आते रहते हैं। श्रद्धालुओं का कहना है कि दुर्गा मां उनकी आराधना से शीघ्र प्रसन्न हो जाती हैं। मंदिर के पुजारी नरेंद्र शर्मा का कहना है कि मन्नत पूरी होने पर श्रद्धालु मां दुर्गा की आराधना करने के लिए यहां बार-बार आते हैं।

दुर्गा मां के इस भव्य मंदिर के पूर्व एवं उत्तर में दो द्वार हैं। इस मंदिर में मां दुर्गा की शेर पर बैठी एक विशाल मूर्ति स्थापित है जिसके पूर्व में शिवालय और भैरूकी मूर्तियां स्थापित हैं। इस मंदिर में भैरूकी अखंड जोत जलती रहती है। श्रद्धालु मां दुर्गा के साथ-साथ भैरूकी पूजा-अर्चना भी करते हैं। श्रद्धालुओं का मानना है कि यहां मां दुर्गा की उपासना के बाद भैरूकी उपासना न की जाए तो धोकपूर्ण नहीं होती है, इसलिए सभी श्रद्धालु भैरूकी अखंड जोत के आगे धूप लगाकर नतमस्तक होते हैं और भैरूबाबा की कृपा प्राप्त करते हैं ताकि मां दुर्गा उनकी मुराद पूरी करें।

मां दुर्गा की विशाल मूर्ति के पश्चिम में पवनपुत्र हनुमान और राधा-कृष्ण की मनमोहकमूर्तियां स्थापित की गई हैं। दुर्गा मां के इस मंदिर में हर वर्ष 11,12व 13मार्च को मां दुर्गा की विशेष रूप से आराधना की जाती है। पुजारी नरेंद्र शर्मा का कहना है कि इस दौरान मां दुर्गा का जन्मदिन हर्षोल्लास से मनाया जाता है। मां का भव्य दरबार सजाया जाता है और भक्ति गीतों से मां का गुणगान किया जाता है। महिला मंडल द्वारा हर मंगलवार को कीर्तन किया जाता है। हर महीने के आखिरी रविवार को मंदिर परिसर में रामायण के सुंदरकांडका पाठ किया जाता है। इस अवसर पर दूर-दूर से आकर श्रद्धालु मां दुर्गा के चरणों में अर्जी लगाते हैं। श्रद्धालुओं का मानना है कि मां दुर्गा इस मंदिर में साक्षात् विराजमान रहती हैं। लगभग 20वर्ष से लगातार मां दुर्गा का श्रृंगार करने वाली उमरावतीनामक महिला का कहना है कि मां दुर्गा की प्रतिमा को एकटक निहारने पर ऐसा एहसास होता है जैसे मां साक्षात् बैठकर अपने भक्तों के दुखडों को दूर कर रही हैं। इस दौरान मां अपने कई रूप बदलती हैं। उमरावतीका कहना है कि यहां पर सच्चे मन से मांगी गई मुराद कभी निष्फल नहीं होती। यही कारण है कि यहां नवरात्रों के दौरान भीड का पारावार नहीं रहता है। श्रद्धालु मां दुर्गा की जय-जयकार करते हुए आगे बढते हैं और मंदिर में धोकलगाते हैं। मां दुर्गा प्रचार मंडल के प्रधान कुलदीप राज हैं और उन्हीं की देखरेख में मंदिर का काम सुचारु रूप से चल रहा है।

मंदिर के प्रचार मंडल द्वारा हर वर्ष 14मार्च को मां दुर्गा की झांकी निकाली जाती है। इस अवसर पर जागरण व विशाल भंडारे का आयोजन किया जाता है। भंडारे व जागरण में श्रद्धालु बढ-चढकर शिरकत करते हैं। मां दुर्गा के प्रति अगाध श्रद्धा के कारण ही वर्तमान में मंदिर का भव्य भवन तैयार हुआ है।

 

धार्मिक स्थल
»      Akshardham
Copyright © MyGuru.in. All Rights Reserved.
Site By rpgwebsolutions.com