» » Durga Ashtami~दुर्गा अष्टमी

Durga Ashtami~दुर्गा अष्टमी



दुर्गा अष्टमी को 'महा अष्टमी' के रूप में भी जाना जाता है, जो देवी शक्ति को समर्पित एक महत्वपूर्ण हिंदू अनुष्ठान है। यह महीने के प्रत्येक महीने में अष्टमी (8 वें दिन) मनाया जाता है। आज देवी दुर्गा के हथियार की पूजा की जाती है और इस त्योहार को 'आस्था पूजा' के रूप में जाना जाता है। आज यह हथियार और मार्शल आर्ट के अन्य रूपों की उपस्थिति के कारण 'ऐश वीरष्टमी' के रूप में भी जाना जाता है। हिंदू उपासक देवी दुर्गा की पूजा करते हैं और दिव्य आशीर्वाद पाने के लिए उपवास करते हैं। दुर्गा अष्टमी पूजा मुख्य रूप से भारत के कई हिस्सों में बंगाल, उड़ीसा, झारखंड और भारत के अन्य पूर्वी भागों में मनाई जाती है। इस दिन को महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि धार्मिक छंदों के बीच अनुष्ठान करने वाले पुजारी दुर्गा की प्रतिमा में विराजित होते हैं।


कहा जाता है कि भगवान विष्णु ने सती के शरीर के 51 टुकड़े किए थे, उनमें से उनका सिर जहां पर गिरा, वह हिंगलाज शक्तिपीठ के नाम से विख्यात हुआ। यह शक्तिपीठ पाकिस्तान के कब्जे वाले बलूचिस्तान में स्थित है। दुर्गा अष्टमी के दिन मां दुर्गा का संकल्प लेकर विधि विधान से व्रत किया जाता है और उनकी विशेष पूजा-अर्चना की जाती है। इससे माता दु्र्गा प्रसन्न होकर अपने भक्तों के कष्टों को दूर करती हैं और उनकी मनोकामनाओं को पूरी करती हैं।


दुर्गाष्टमी हर महीने आती है इस कारण इसे मासिक दुर्गाष्टमी कहते हैं. इस दिन व्रत और पूजन का बड़ा महत्व है. ऐसी मान्यता है कि इस दिन सच्चे दिल और श्रद्धा से जो भी इच्छा की जाए देवी माता उसे ज़रूर पूरा करती है, अन्य किसी भी दूसरी पूजा की तरह हिंदू धर्म में मासिक दुर्गाष्टमी को बहुत ही महत्वपूर्ण माना गया है. यूं तो हर महीने की दुर्गाष्टमी का महत्व बताया गया है पर उन सभी में सबसे महत्वपूर्ण ‘महाष्टमी’ होती है जो आश्विन माह के शारदीय नवरात्रि के दौरान आती है.


दुर्गा अष्टमी पूजन विधि


1. सबसे पहले सूर्योदय से पहले उठें । स्नान आदि करके साफ वस्त्र धारण करें।


2.किसी चौकी पर लाल कपड़ा बिछाकर उस पर मां दुर्गा की प्रतिमा या चित्र स्थापित कर लें।


3. इसके बाद माता को लाल पुष्प, सिंदूर और अक्षत चढ़ांए। घूप व दीप जलाकर मां का की पूजा करें


4. मां के मंत्र और दुर्गा सप्तशती का पाठ करें।


5.इसके बाद मां की आरती उतारें, फल और मिठाई का भोग लगाकर इसे प्रसाद के रुप में बाटें।



कुमारी पूजा : छोटी लड़की पूजा, जिसे कुमारी पूजा कहा जाता है, दिन का मुख्य आकर्षण है। कुमारी पूजा वह स्थान है जहाँ 12-13 वर्ष की आयु में युवा लड़की दुर्गा देवी का प्रतिनिधित्व किया जाता है। आज योगिनियां (देवी दुर्गा की सबसे अच्छी दोस्त) की पूजा की जाती है। देवी-दुर्गा, जयंती, मंगला काली, काली भद्रा, कपालिनी, क्षात्र धात्री, शिव, शिव और स्वधा की नौ अभिव्यक्तियों की पूजा की गई। संध्या आरती की अग्नि से की जाती है। अग्नि प्रकाश और पाप की शुद्धि का प्रतीक है।


दुर्गा अष्टमी में संध्या पूजा: रात में, संध्या पूजा आयोजित की जाती है, जो महा नवमी के साथ महाष्टमी में शामिल होने का प्रतीक है। यह अष्टमी की शुरुआत और महा नवमी की शुरुआत में किया गया था। दुर्गा अष्टमी-दुर्गा पूजा के दौरान सबसे महत्वपूर्ण अनुष्ठानों में से एक है संध्या पूजा। अष्टमी नवमी में होने पर 48 मिनट का अंतराल या समझौता, बहुत पवित्र होती है।इसका आधा हिस्सा अष्टमी में और दूसरा आधा नवमी में पड़ता है। इस समय दुर्गा की पूजा चामुंडा (भिक्षु चंद और मुंडा द्वारा मारे गए काली के एक रूप) के रूप में की जाती है।



दुर्गा अष्टमी की कथा


दुर्गा अष्टमी की पौराणिक कथा के अनुसार एक समय ऐसा आया जब पृथ्वीं पर असुरों की शक्ति काफी बढ़ गई।जिसके बाद उन्होंने स्वर्ग लोक पर आक्रमण कर दिया । जिसमें उन्होनें कई देवताओं को मार दिया और स्वर्ग को तहस -नहस करने लगे। इन असुरों में सबसे शक्तिशाली महिषासुर नाम का असुर था। उस समय देवता अपनी जान बचाकर भगवान शिव, विष्णु और ब्रह्मा जी के पास गए।


जिसके बाद त्रिदेवों ने मिलकर देवी दुर्गा का निर्माण किया और उन्हें विशेष अस्त्र भी प्रदान किया। इसके बाद देवी दुर्गा धरती पर आई और उन्होंने सभी असुरों का वध किया। महिषासुर के पास एक विशाल सेना थी । मां दुर्गा ने महिषासुर की पूरी सेना को नष्ट कर दिया और इसके बाद महिषासुर का भी वध कर दिया ।जिसके बाद से ही मां दुर्गा के इस पर्व को दुर्गा अष्टमी के रुप में मनाया जाने लगा। मां दुर्गा को समर्पित दिन महिने में दो बार मनाया जाता है।



दुर्गा अष्टमी का महत्व

संस्कृत में 'दुर्गा' शब्द 'अपरिभाषित' है और 'अष्टमी' का अर्थ है 'आठ दिन'। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, 'देवी भद्रकाली' के रूप में जानी जाने वाली उग्र और शक्तिशाली देवी दुर्गा का रूप विकसित हुआ है। दुर्गा अष्टमी का दिन महिषासुर ’नामक दानव पर देवी दुर्गा की जीत के रूप में मनाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि दुर्गा अष्टमी का व्रत पूरी श्रद्धा के साथ किया जाता है।








Durga Ashtami also known as 'Maha Ashtami' is a significant Hindu custom devoted to Goddess Shakti. It is seen on the 'ashtami' (eighth day) of the 'Shukla Paksha' (the brilliant fortnight of moon) of each lunar month. On this day the weapons of Goddess Durga are adored and the festival is known as 'Astra Puja'. This day is additionally prevalently alluded as 'Virashtami' inferable from the showcase of arms and different types of combative techniques. Hindu aficionados offer petitions to Goddess Durga and keep a severe quick to look for Her awesome endowments.


It is said that Lord Vishnu had made 51 bits of Sati's body; where he dropped his head, he wound up well known as Hinglaj Shaktipeeth. This Shaktipeeth is situated in Pakistan-involved Balochistan. Upon the arrival of Durga Ashtami, the goals of Mother Durga is secured with the law and her exceptional pooja is performed. With this, Mother Durga is satisfied to evacuate the sufferings of her aficionados and satisfy her desires.


Durga Ashtami is commended each month on the Ashtami date of the Shukla Paksha. Mother Durga is revered on this day. Durgashti comes each month so it is called month to month evil. Fasting and love are significant on this day. It is accepted that on this day the Goddess Mother satisfies whatever desire she wishes with genuine heart and worship. Like some other love, the month to month durgashtami has been viewed as significant in Hinduism. In spite of the fact that the hugeness of the wretchedness of consistently has been told, however the most significant of every one of them is 'Mahashtami' which comes during the Ashwari month's Shardi Navratri.



Durga Astami Pujan Vidhi 


1. First get up before dawn. Wear clean garments in the wake of washing. 


2. Put a red fabric on a check post and introduce the statue or picture of Mother Durga on it. 


3. Outside of it, the red blossom, vermilion, and uneven trips to the mother. Love the mother by consuming the foot and light 


4. Peruse the mantras of Mantra and Durga Saptashati. 


5. From that point forward, take the mother's aartis, appreciate the foods grown from the ground, and separation it as a prasad.

Durga Ashtami Puja is seen in numerous pieces of India for the most part in Bengal, Orissa, Jharkhand and other eastern pieces of India. The day is viewed as critical as life is inhaled into the icon of Durga by ministers who perform expound customs in the midst of reciting of religious sections. 


Kumari Pooja : The love of young ladies, called Kumari puja, is the principle fascination of the day. Kumari Puja is where in a young lady, inside age 12-13 is venerated, as the young lady portrayal of Devi Durga. Yoginis (the sidekicks of Devi Durga) are venerated on this day. The nine sign of the Goddess-Durga, Jayanti, Mangla Kali, Bhadra Kali, Kapalini, Kshama Dhatri, Siva, Svaha and Svadha are venerated. Night Aarati is performed with flame. The flame symbolizes light and is the purifier of sins. 


Sandhi Puja in Durga Ashtami : at night, Sandhi puja is directed, which denotes the between connecting of the Maha Ashtami with Maha Navami. It is performed toward the finish of Durga Ashtami and the start of Maha Navami. Sandhi Puja is one of the most significant custom during Durga Ashtami-Durga Puja. The 48 minutes interim or Sandhi when Ashtami Tithi travels into Navami is profoundly sacrosanct. Half of it falls in Ashtami and another half in Navami. Right now Durga is revered as Chamunda (a type of Kali who executed the evil presence Chand and Munda)



The Narrative of Durga Ashtami


As per the folklore of Durga Ashtami, it came when the intensity of the Asuras expanded on the earth. After that they attacked Paradise Lok. In which they executed numerous Gods and started to lose the paradise. In these occurrences, the most dominant Mahishasur was the name of the name. Around then, the god spared his life and went to Lord Shiva, Vishnu and Brahma Ji. 

After which the Tridevas together made the Goddess Durga and gave them unique weapons. After this Goddess Durga went ahead earth and they murdered all the dead. Mahishasur had a gigantic armed force. Mother Durga decimated the entire armed force of Mahishasur and after that Mahishasur was slaughtered. From that onwards, this celebration of Mother Durga was commended as Durga Ashtami. Mother Durga is commended two times per day devoted to the month.



Significance of Durga Ashtami Vrat: 


In Sanskrit language the word 'durga' signifies 'undefeatable' and 'ashtami' connotes 'eight day'. As per the Hindu legends the savage and ground-breaking type of Goddess Durga, known as 'Goddess Bhadrakali' was embodied. The day of Durga Ashtami is commended as the triumph of Goddess Durga over the evil spirit named 'Mahishasura'. It is accepted that one who watches the Durga Ashtami Vrat with full devotion will be gave with bliss and favorable luck in their lives.

 
 
 
Comments:
Subscribe for Newsletter
 
 
 
 
 
Copyright © MyGuru.in. All Rights Reserved.
Site By rpgwebsolutions.com