Subscribe for Newsletter
Mokshda Ekadashi~मोक्षदा एकादशी


मोक्षदा एकादशी को ‘मार्गशीरा’ के चन्द्र मास के समय शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि (11 वें दिन) पर गीता जयंती के रूप में मनाया जाता है। ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार यह पर्व नवंबर से दिसंबर के महीनों के बीच आता है। जैसा कि नाम से व्याप्त है, मोक्षदा एकादशी व्रत का पालन करने वाले को जन्म और मृत्यु के चक्र से मुक्ति या मोक्ष ’प्राप्त होगा और भगवान विष्णु के पवित्र निवास 'वैकुंठ' के दर्शन होंगे। यह एकादशी पूरे देश में भक्ति और जोश के साथ मनाई जाती है। मोक्षदा एकादशी को 'मौन एकादशी' का रूप भी कहा जाता है और इस दिन भक्त पूरे दिन 'मौन' (कोई बात नहीं) का पालन करते हैं। दक्षिण भारतीय राज्य उड़ीसा और उसके निकटवर्ती क्षेत्रों में यह एकादशी बैकुंठ एकादशी के नाम से प्रख्यात है। मोक्षदा एकादशी व्रत बहुत ही उल्लेखनीय है क्योंकि यह जीवन भर के दौरान किए गए सभी बुरे कर्मों और पापों को भी क्षमा करा सकता है।

 

मोक्षदा एकादशी कथा

एक समय की बात है, वैष्णक नाम का एक राजा गोकुल नगर में रहता था। वह बहुत धार्मिक स्वभाव का राजा था। उसका समय सुख चैन के साथ व्यतीत हो रहा था। राज्य में किसी भी प्रकार का कोई संकट नहीं था। एक दिन हुआ यह कि राजा वैष्णक अपने शयनकक्ष में आराम कर रहे थे। तभी उसने एक अजीबोगरीब सपना देखा जिसमें वह देखता है कि उसके पिता (जिनका निधन हो गया था) उनको नरक में बहुत यातनायें दी जा रही है। अपने पिता को इन कष्टों में देखकर, राजा व्याकुल हो गया और उसकी नींद खुल गयी। राजा रात भर अपने सपने के बारे में सोचता रहा लेकिन कुछ समझ नहीं पाया फिर सुबह होते ही उन्होंने ब्राह्मणों को बुलाया। जब ब्राह्मण पहुंचे, तो राजा ने उन्हें अपने सपनों के बारे में बताया। राजा के स्वप्न से ब्राह्मणों ने आभास लगाया कि उनके पिता मृत्यु से पीड़ित हैं, लेकिन उन्होंने उनसे मुक्त होने के तरीके के बारे में कोई सुझाव देने में असमर्थता व्यक्त की। उन्होंने कहा कि आपकी शंका का समाधान समाधावत नामक एक भिक्षु द्वारा किया जा सकता है। वह एक नामी पहुँचा हुआ भिक्षु है। इसलिए आप यथाशीघ्र उनके पास जाए और इसका समाधान खोजे। अब राजा वैष्णक ने वैसा ही किया और अपनी शंका के साथ पर्वत भिक्षु के आश्रम में पहुँच गया। जब ऋषि ने राजा के स्वप्न को सुना, तो वह भी परेशानी से चिंतित था। फिर उसने राजा के पिता को अपनी योग दृष्टि से देखा। वे सचमुच नरक में पीड़ित थे। उसने इसका कारण भी समझा। तब उसने राजा से कहा कि हे राजन, आपके पिता को अपने पिछले जन्म के पापों की सजा भुगतनी पड़ रही है। उन्होंने सौतेली महिला के वश में दूसरी महिला का आदर नहीं किया, उन्होंने रतिदान से इनकार किया। तब राजा ने उससे पूछा, मेरे पिता इससे कैसे छुटकारा पा सकते हैं? तब पर्वत ऋषि ने उनसे कहा कि यदि आप विधि के अनुसार मार्गशीर्ष शुक्ल एकादशी का उपवास रखते हैं तो राजन मोक्ष प्राप्त कर सकते हैं और अपने पिता को अपना पुण्य दान कर सकते हैं। राजा ने ऐसा ही किया। मार्गशीर्ष एकादशी के व्रत का पालन करके और अपने पिता को इसका दान दिया। फलस्वरूप राजा ने सीधे देखा कि उसके पिता बैकुंठ जा रहे हैं। उन्होंने कहा, हे पुत्र, मैं कुछ समय के लिए मोक्ष का आनंद लूंगा और मोक्ष प्राप्त करूंगा। यह सब आपके व्रत द्वारा संभव हुआ, आपने इस नरक के जीवन से मुझे बचाकर सच्चे अर्थों में पुत्र होने का धर्म पूरा किया है। आपका कल्याण हो, पुत्र। आपने मुझे इस नारकीय जीवन से मुझे बचाकर सच्चे अर्थों में पुत्र होने का धर्म पूरा किया है। आपका कल्याण हो, पुत्र।

राजा द्वारा एकादशी का व्रत करने से उसके पिता के पापों का क्षय हुआ और उन्होंने मोक्ष प्राप्त किया, यही कारण है कि इस एकादशी को मोक्षदा एकादशी कहा गया है। चूंकि इस दिन भगवान कृष्ण ने भी गीता का उपदेश दिया था, इसलिए यह एकादशी और भी प्रमुख हो जाती है।

 

अनुष्ठान और समारोह:

श्रद्धालु मोक्षदा एकादशी पर सुबह जल्दी उठकर स्नान करते है। व्रत इसका एक और महत्वपूर्ण रिवाज है। मोक्षदा एकादशी व्रत में पूरा दिन बिना कुछ खाए-पिए रहना पड़ता है। एकादशी के दिन से द्वादशी की सुबह तक उपवास रखा जाता है। दूध, दुग्ध उत्पाद, शाकाहारी भोजन के उत्पादों का सेवन करके आंशिक उपवास की अतिरिक्त अनुमति है। चावल, अनाज, तिल, प्याज, और लहसुन का उपयोग नहीं किया जाता है। भक्त अपने इष्ट भगवान विष्णु की आराधना करते हैं। पवित्र भगवद् गीता वैसे ही पूजनीय है, और विष्णु भगवान् के संदेश 'विष्णु सहस्रनाम' और 'मुकुंदष्टकम' के साथ भी जुड़े हुए हैं। याचिकाएँ देने के लिए भक्त भगवान विष्णु के मंदिर में जाते हैं।

 




Mokshda Ekadashi is celebrated as Geeta Jayanti on the Ekadashi date (11th day) of Shukla Paksha during the lunar month of 'Margashira'. According to the Gregorian calendar, the festival falls between the months of November to December. As the name implies, the observer of the Mokshda Ekadashi fast will receive liberation or moksha from the cycle of birth and death and have darshan of 'Vaikuntha', the holy abode of Lord Vishnu. This Ekadashi is celebrated with devotion and fervor throughout the country. Mokshda Ekadashi is also called the form of ‘silent Ekadashi’ and on this day devotees observe ‘silence’ (no matter) throughout the day. This Ekadashi is known as Baikuntha Ekadashi in the South Indian state of Orissa and its adjoining areas. Mokshda Ekadashi is very remarkable because it can also forgive all the evil deeds and sins committed during the lifetime.

 

Mokshda Ekadashi Mythology

Once upon a time, a king named Vaikhanas lived in Gokul Nagar. He was a king of very religious nature. Time was also spent with happiness. There was no crisis of any kind in the state. One day it happened that King Vaikhanas was resting in his bedroom. Then he has a strange dream in which he sees that his father (who had died) is being tortured a lot in hell. Seeing his father in these sufferings, the king was distraught and woke up. The king kept thinking about his dream all night but could not understand anything, then he called the Brahmins as soon as morning. When the Brahmin arrived, the king told him about his dream. The king's dream made the Brahmins realize that his father was suffering from death, but he expressed an inability to suggest any way to be free from them. He suggested King Vaishnaka. He said that your doubts can be resolved by a monk named Samadhavat. He is a well-known monk. So you go to them as soon as possible and find a solution. Now King Vaishnak did the same and reached the ashram of the mountain monk with his doubts. When the sage heard the king's dream, he too was once afraid of evil. Then he saw the king's father with his yogic vision. They were literally suffering in hell. He also understood the reason for this. Then he told the king that, O Rajan, your father is facing the punishment of sins of his previous birth. He did not respect the other woman under the control of the stepmother, he refused the donation. Then the king asked him, how can my father get rid of it? Then the mountain sage told him that if you fast for Margashirsha Shukla Ekadashi according to the law, Rajan can attain salvation and donate his virtue to his father. The king did the same. Following the fast of Margashirsha Ekadashi and donated it to his father. As a result, the king saw directly that his father was going to Baikuntha. He said, O son, I will enjoy salvation for some time and get salvation. All this was made possible by your fast, you have completed the religion of being a son in the true sense by saving me from the life of hell. Good welfare, son You have fulfilled the religion of being a son in the true sense by saving me from this hellish life. Good welfare, son

The fasting of Ekadashi by the king caused his father's sins to decay and he attained salvation, which is why this Ekadashi is called Mokshda Ekadashi. Since Lord Krishna also preached the Gita on this day, this Ekadashi becomes even more prominent.

 

Ritual and Ceremony:

Devotees wake up early in the morning on Mokshda Ekadashi and bathe. Fasting is another important ritual. In Mokshda Ekadashi fast, one has to spend a whole day without eating and drinking. A fast is kept from the day of Ekadashi till the morning of Dwadashi. Partial fasting is additional permitted by expanding milk, dairy products, vegetarian food products. Rice, cereals, heartbeats, onions, and garlic are not used. Devotees seek their favors from Lord Vishnu. The sacred Bhagavad Gita is likewise venerated, and the messages are associated with ‘Vishnu Sahasranama’ and ‘Mukundashtakam’. Devotees visit the temple of Lord Vishnu to give petitions.

 
 
 
Comments:
 
 
 
 
Festivals
 
 
Copyright © MyGuru.in. All Rights Reserved.
Site By rpgwebsolutions.com