Subscribe for Newsletter
|| Sri Krishna Janmashtami ||

श्रीमद्भागवत , भविष्यपुराण, अग्नि आदि पुराणों के अनुसार  भगवान् श्रीकृष्ण (Lord Krishna) का जन्म भाद्रपद कृष्ण अष्टमी , बुधवार , रोहिणी नक्षत्र एवं वृष के चन्द्रमा कालीन अर्धरात्रि के समय हुआ था |


ऋषि व्यास , नारद आदि ऋषियों के मतानुसार सप्तमी युक्त अष्टमी ही व्रत , पूजन आदि हेतु ग्रहण करनी चाहिए | (i.e Sun, 21 August 2011)


वैष्णव संप्रदाय के अधिकाँश लोग उदयकालिक नवमी युता श्रीकृष्ण जन्माष्टमी को ग्रहण करते हैं | (i.e Mon, 22 August 2011)

 

Sri Krishna Janmashtami Pujan Vidhi

and

Aarti Shree Kunj Bihari Ki

इस दिन केले के खंभे , आम अथवा अशोक के पल्लव आदि से घरका द्वार सजाया जाता है । दरवाजे पर मंगल कलश एवं मूसल स्थापित करे । रात्रिमें भगवान् श्रीकृष्ण की मूर्ति अथवा शालग्रामजी को विधिपूर्वक पंचामृत से स्नान कराकर षोडशोपचार से विष्णु पूजन करना चाहिऐ ।

‘ ॐ नमो भगवते वासुदेवाय ‘ – इस मन्त्र से पूजन कर तथा वस्त्रालंकर आदि से सुसज्जित करके भगवान् को सुन्दर सजे हुए हिंडोले में प्रतिष्ठित करे । धूप, दीप और अन्नरहित नैवेध तथा प्रसूति के समय सेवन होने वाले सुस्वाद मिष्ठान , जयेकेदार नमकीन पदार्थो एवं उस समय उत्तपन्न होने वाले विभिन्न प्रकार के फल, पुष्पों और नारियल , छुहारे , अनार बिजौरे, पंजीरी, नारियल के मिष्ठान तथा नाना प्रकार के मेवे का प्रसाद सजाकर श्रीभगवान् को अर्पण करे ।

दिन में भगवान् की मूर्ति के सामने बैठकर कीर्तन करे तथा भगवान् का गुणगान करे और रात्रिको बारह बजे गर्भ से जन्म लेने के प्रतीक स्वरुप खीरा फोड़कर भगवान् का जन्म कराये एवं जन्मोत्सव मनाये । जन्मोत्सव के पश्चात कर्पूरादी प्रज्वलित कर समवेत स्वर से भगवान् की आरती स्तुति करे, पश्चात प्रसाद वितरण करे।

Vrat & Pooja Vidhi
 
Ringtones
Copyright © MyGuru.in. All Rights Reserved.
Site By rpgwebsolutions.com