Subscribe for Newsletter
Shravan Month (सावन माह) - What is shiv(शिव क्या है)
भारतीय हिन्दू पंचांग का पांचवा मास श्रावण, भगवान शिव का अत्यंत प्रिय मास है। इस मास में शिव की भक्ति करने से उनकी विशेष कृपा शिव भक्तों को प्राप्त होती है। उनके पूजन के लिए अलग-अलग विधान भी है। महादेव के भक्त जैसे चाहे अपनी कामनाओं के लिए उनका पूजन कर सकता है। क्योंकि भगवान् भोलेनाथ शिव अपने नाम की तरह ही भोले सरल और सीधे है। 

शवे भक्ति:शिवे भक्ति:शिवे भक्तिर्भवे भवे।
अन्यथा शरणं नास्ति त्वमेव शरंण मम्।।


उच्चारण में अत्यंत सरल शिव शब्द अति मधुर है। शिव शब्द की उत्पत्ति वश कान्तौ धातु से हुई हैं। जिसका तात्पर्य है जिसको सब चाहें वह शिव हैं, और सब चाहते हैं आंनद को अर्थात शिव का अर्थ हुआ आंनद। भगवान शिव का ही एक नाम है शंकर। शं यानी आंनद एवं कर यानी करने वाला अर्थात आंनद को करने वाला या देने वाला ही शंकर हैं। शिव को जानने के बाद कुछ शेष रह नहीं जाता इसी प्रकार मानकर सावन मास में शिव का पूजन पूरी विधि विधान से करना चाहिए।
 
Copyright © MyGuru.in. All Rights Reserved.
Site By rpgwebsolutions.com