Home » Hindu Festivals Collection » Karthigai Deepam Festival

Karthigai Deepam


कार्तिगई दीपम या कार्तिकई विलासकिदु एक तमिल और तेलुगु हिंदू, प्रकाशोत्सव है। यह शायद दक्षिण भारतीय लोगो द्वारा सबसे अधिक मनाया जाने वाला उत्सव है। यह उत्सव ज्यादातर हिंदू घरों और हर मंदिर में मनाया जाता है, और तमिल कैलेंडर के अनुसार कार्तिकई (मध्य-नवंबर से दिसंबर) तक की अवधि में आता है। कार्तिगई दीपम उस दिन होता है जब चंद्रमा नक्षत्र पूर्णमी और कार्तिगई एक साथ दिखाई देते है। यह नक्षत्र कान से एक लटकन के आकार में आकाश में छह सितारों के एक समूह के रूप में दिखाई देती है।

 

कार्तिगई दीपम के पीछे की कहानी

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, एक बार भगवान ब्रह्मा और विष्णु इस बात पर चर्चा कर रहे थे कि उनमें से सर्वोच्च कौन है। उन्हें सीख देने और सभी के ऊपर अपने वर्चस्व की पुष्टि करने के लिए, भगवान शिव एक अनंत अग्नि के रूप में प्रकट हुए और उन दोनों को अग्नि के ऊपर और नीचे के सिरे खोजने के लिए कहा। ब्रह्मा ने हंस का रूप धारण किया और ऊपर की ओर उड़ गए, जबकि विष्णु एक वराह के रूप में अग्नि के नीचे की ओर बढ़े। हालाँकि, दोनों अपनी कोशिशों में विफल रहे और भगवान शिव की शक्ति को सबसे ऊपर माना। ऐसा मान्यता है कि बाद में भगवान शिव एक विशाल अग्नि पहाड़ी के रूप में प्रकट हुए जिसे अरुणाचल कहा जाता है। इस पौराणिक कथा को मनाने के लिए, प्रत्येक वर्ष कार्तिगई दीपम के अवसर एक विशाल दीपक में पवित्र अग्नि प्रज्ज्वलित की जाती है।

एक अन्य कहानी के अनुसार, कार्तिगई दीपम पर, भगवान मुरुगा जो भगवान शिव की तीसरी आंख से छह ज्वालाओं के रूप में पैदा हुए थे और कार्तिगई पेंगल (छह युवतियों) द्वारा छह सुंदर शिशुओं के रूप में उनका पालन-पोषण हुआ था, जिन्हें देवी पार्वती ने एक एकल लड़के के साथ एकजुट किया था।

दीपम भी आध्यात्मिक और भौतिक, दोनों मोर्चों पर बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है व् इसे दीया जलाकर त्यौहार के रूप में राक्षस महिषासुर पर देवी पार्वती की जीत का जश्न मनाया जाता है।

 

कार्तिगई दीपम के दौरान अनुष्ठान

इस दिन घरों की साफ़ सफाई और धुलाई की जाती है। देवी देवताओं की पूजा करने के लिए घर के सामने चावल के आटे के मिश्रण के साथ 'कोलम' नामक पुष्प आकृति बनायीं जाती है।

'अगल' नाम के दीपक को फिर भगवान के सामने रखा जाता है और कोलम में श्रंगार के रूप में इसका उपयोग किया जाता है। उपवास को सूर्यास्त के समय तक रखा जाता है और व्रत को खोलने के बाद विशेष व्यंजन खाने के लिए बनाये जाते हैं।

पूरे घर को दिये की रोशनी से चमकाया जाता है। पौराणिक कथाओं के प्रतीकात्मक रूप रूप अनुसार दीपक की विभिन्न कलाकृतियों का उपयोग किया जाता है लक्ष्मी विलाकु का आकार मुड़े हुए हाथों वाली महिला के रूप में, कुथु विलाकु पांच पंखुड़ी के फूल के रूप में और गजलक्ष्मी विलाकू- हाथी के दीपक के आकार के रूप में होते है।

यह त्यौहार बहन-भाई के बंधन को भी फिर से प्रमुख बना देता है क्योंकि बहनें अपने भाइयों की लंबी आयु और उनकी सफलता के लिए प्रार्थना करती हैं और उपवास रखती हैं।

आंध्र प्रदेश में, पूर्णिमा या कार्तिक पंचमी के अवसर पर, किसी भी बुराई को दूर करने के लिए 365 विक्स के साथ एक बहुत बड़ा दीपक जलाया जाता है और शुभ और सौभाग्य को अपने पास बुलाने के लिए कार्तिकेय पुराणम के पवित्र पाठ का अनुसरण और पाठ किया जाता है।

यह पर्व तमिलनाडु के तिरुवरना मलाई पहाड़ियों के शिव मंदिरों में बड़े धूमधाम के साथ मनाया जाता है। कार्तिकई दीपम में, एक विशाल आग उस पहाड़ी के ऊपर है जो इसके चारों ओर कई किलोमीटर से दिखाई देती है।

 




Karthigai Deepam or Karthikai Vilasakidu is a Tamil and Telugu Hindu, Light festival. It is perhaps the most celebrated festival by South Indian people. The festival is mostly celebrated in Hindu homes and every temple, and according to the Tamil calendar falls in the period from Karthikai (mid-November to December). Kartigai Deepam occurs on the day when the moon constellation Purnami and Kartigai appear together. This constellation appears as a group of six stars in the sky in the shape of a pendant from the ear.

 

Story Behind Karthigai Deepam

According to mythological beliefs, once Lord Brahma and Vishnu were discussing who is the supreme among them. To teach them and confirm their supremacy above all, Lord Shiva appeared as an infinite fire and asked them both to find the top and bottom ends of the fire. Brahma took the form of a swan and flew upwards, while Vishnu as a Varaha progressed under the fire. However, both failed in their efforts and considered Lord Shiva's power above all. It is believed that later Lord Shiva appeared in the form of a huge fire hill called Arunachal. To commemorate this legend, holy fire is lit in a huge lamp every year on the occasion of Kartigai Deepam.

According to another story, on Karthigai Deepam, Lord Muruga who was born as six flames from the third eye of Lord Shiva and was raised as six beautiful babies by Karthigai Pengal (six young women), who was the goddess Parvati had united with a single boy.

Deepam is also a symbol of the victory of good over evil on both the spiritual and physical fronts and celebrates the victory of Goddess Parvati over the demon Mahishasura as a festival by lighting a lamp.

 

Ritual During Karthigai Deepam

On this day houses are cleaned and washed. A floral motif called 'Kolam' is made with a mixture of rice flour in front of the house to worship the Gods and Goddesses.

The lamp named 'Agal' is then placed in front of the god and used as a decoration in Kolam.

The fast is kept till the time of sunset and after opening the fast special dishes are made for eating.

The entire house is illuminated with the lights of Diya's. Various artefacts of the lamp are used as a symbolic form of mythology - Lakshmi Vilaku as a woman with folded hands, Kuthu Vilaku with five petal flowers and Gajalakshmi Vilaku - elephant shaped lamp.

This festival also makes the bonding of sister-brother again prominent as the sisters pray and fast for the long life of their brothers and their success.

In Andhra Pradesh, on the occasion of Poornima or Kartik Panchami, a huge lamp is lit with 365 vixas to remove any evil and follow the sacred text of Kartikeya Puranam to bring auspiciousness and good luck to you. is.

The festival is celebrated with great pomp in the Shiva temples in the Thiruvarna Malai hills of Tamil Nadu. In Karthikai Deepam, a huge fire is on top of a hill that is visible from many kilometers around it.

 
 
 
Comments:
Subscribe for Newsletter
 
 
 
 
 
Copyright © MyGuru.in. All Rights Reserved.
Site By rpgwebsolutions.com