Home » Hindu Festivals Collection » Mahashivratri~महाशिवरात्रि Festival

Mahashivratri~महाशिवरात्रि


महा शिवरात्रि (शिव रात्रि) एक हिंदू त्योहार है जिसे पूरे देश में बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है। यह त्योहार आम तौर पर माघ महीने (शालिवाहन के अनुसार) या फाल्गुन (विक्रम के अनुसार) के हिंदू कैलेंडर के 13 रातों / 14 दिनों में आता है।

यह त्योहार विशेष रूप से भगवान शिव को समर्पित है, जिसे सैकड़ों नामों से जाना जाता है। महा शिवरात्रि आनंद से भरा दिन है। सर्वशक्तिमान से कल्याण के लिए प्रार्थना करें। लगभग सभी हिंदू सुबह / शाम दुनिया भर में प्रार्थना करते हैं और दिन में कुछ उपवास करते हैं। अधिकांश लोग निकटतम शिव मंदिर में जाते हैं और बड़ी भीड़ में प्रार्थना करते हैं।

पूरी रात पूजा और भक्ति चलती रहती है और भक्तों ने नारियल, बिल्व के पत्ते, विशेष फल और शिव और उनकी पत्नी, दिव्य पार्वती के लिए तैयार पवित्र खाद्य पदार्थों को समर्पित किया। क्योंकि यह दो अंधेरे सप्ताह हैं, रात की मोमबत्ती की पूजा करने वाले और रोशनी (मिट्टी से बने दिए, कपास से बने बाती और घी में डूबा हुआ) - यह आध्यात्मिक अभिव्यक्ति का प्रतीक है।


महाशिवरात्रि का महत्व

शिवाजी और पार्वती की माँ का विवाह फाल्गुन मास के दिन हुआ, इससे महाशिवरात्रि आई। इसलिए, इस त्योहार को महाशिवरात्रि कहा जाता है।

एक निर्दयी एवं महापापी व्याध (बहेलिया) शिकारी, एक दिन शिकार के लिए जाता है। रास्ते में उसने शिव का मंदिर देखा। उस दिन महाशिवरात्रि थी। इसी कारण से, शिव मंदिरों में पूजा, गायन, कीर्तन में भक्त दिखाई दे रहे थे। 'पत्थरों को मानने वाले मूर्ख लोग' शिव शिव 'और' हर हर 'कहते हैं, ऐसे वह व्यंग्यात्मक बयान देते हुए जंगल में चला जाता हैं। वह शिकार ढूंढने के लिए एक पेड़ पर जा बैठा। लेकिन पत्तियों के कारण, उसे कुछ दिखाई नहीं दे रहा था। इस कारण से, उसने एक एक पत्ता तोड़ना और गिराना शुरू कर दिया। इस क्रिया को अंजाम देते समय, ठण्ड के कारण उसके मुख से शिव शिव निकल रहा था। पान के पत्ते, जो टूट रहे थे, पेड़ के नीचे शिव की पिंडी पर गिर रहे थे, जिसे बाहली नहीं बहेलिया नहीं जानता था। सुबह एक हिरण दिखाई देता है। बहेलिया उसको तीर से मारने वाला था, लेकिन हिरण ने उसे तीर नहीं चलाने के लिए कहा और उसने शिकार करना छोड़ दिया उसके बाद, बहेलिये द्वारा किये गए पापो से मुक्ति के बारे में बताया। उस रात अनजाने में किया गया जागरण बहलिए के धार्मिक कर्म में जुड़ गया क्योंकि उस दिन महाशिवरात्रि थी, क्योंकि श्राप और शिव के जप के कारण बहलिए का पाप नष्ट हो गया था और ज्ञान भी प्राप्त हुआ था। इस कहानी से यह ज्ञात होता है कि शिव की पूजा से शिव भी बहुत खुश होते है वह भले ही अनजाने में की जाये।


शिव जी की पूजा कैसे करें

आज, शिव पूजा सभी अनुष्ठानो के माध्यम से की जाती है। शिव को कमल व जल चढ़ाने से ही भगवान मानव की हर प्रकार की इच्छा को पूरा करते हैं। हिंदू धर्म के अनुसार, भगवान शिव की पूजा बिल्वपत्र, शहद, दूध, दही, शक्कर और गंगाजल से करनी चाहिए। ऐसा करने से भक्त को मनवांछित फल की प्राप्ति होती है।

महा शिवरात्रि, जो 'शिव की महान रात' में तब्दील होती है, भारत भर में भगवान शिव के भक्तों द्वारा मनाया जाने वाला त्योहार है। यह त्योहार हिंदू महीने फाल्गुन या माघ में कृष्ण पक्ष के दौरान अमावस्या की चौथी रात को मनाया जाता है। यह दिन हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, भगवान शिव को, जिन्हें 'बुराई का नाश करने वाला' माना जाता है, की पूजा करने के लिए मनाया जाता है।यह माना जाता है कि इस दिन उत्तरी गोलार्ध में तारे इष्टतम स्थिति में हैं, और किसी व्यक्ति की आध्यात्मिक ऊर्जा को बढ़ाने में मदद करते हैं। यह त्योहार सर्दियों की समाप्ति और वसंत की शुरुआत का प्रतीक है, और माना जाता है कि यह शिव और शक्ति के अभिसरण का दिन है।अन्य त्योहारों की तरह। यह संयम, क्षमा, पश्चाताप, ईमानदारी और दया पर ध्यान केंद्रित करने का भी समय है।


शिव जी को प्रसन्न करने के 6 उपाय

1. भगवान के नेत्रों के समक्ष है बिल्वपत्र

भगवान के नेत्रों के समक्ष है बिल्वपत्र महाशिवरात्रि पर भगवान शिव की पूजा में आप बिल्वपत्र का प्रयोग कर सकते हैं। तीन पत्तियों वाला बिल्वपत्र शिवजी को बहुत प्रिय है। भगवान शिव की पूजा में पहला स्थान इसी पत्र का होता है। माना जाता है कि बिल्वपत्र की तीनों पत्तियां भगवान शिव के तीन नेत्रों का प्रतिक है।

2. घर से नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है

महाशिवरात्रि पर शिवजी की पूजा में अगर आप तिल और जौं का प्रयोग करते हैं तो आपके सभी पापों का अंत हो जाता है। साथ ही पितृगणों का आशीर्वाद भी मिलता है और घर से नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है।

3. दिव्य शक्तियां प्राप्त होती हैं

भोलेनाथ की पूजा में आप भस्म का प्रयोग कर सकते हैं। भस्म भगवान शिव को बहुत प्रिय है। शिवरात्रि पर भगवान शिव की पूजा में इसे अवश्य रखना चाहिए। व्रतधारी अगर शिवलिंग का भस्म से अभिषेक करते हैं तो उनको दिव्य शक्तियां प्राप्त होती हैं।

4. घर का वातावरण होता है सकारात्मक

महाशिवरात्रि पर भगवान शिव की पूजा में आप रुद्राक्ष का प्रयोग कर सकते हैं। शिव तथा रुद्राक्ष एक-दूसरे के पर्याय हैं। रुद्राक्ष की उत्पत्ति भगवान शिव के आंसू से हुई है। पूजा के बाद रुद्राक्ष को घर में रखने से घर का वातावरण शुद्ध होता है।

5. आहार के रूप में लेते है शिव

शिव भगवान शिव की पूजा में आप धतूरा का भी प्रयोग कर सकते हैं। पुराणों में बताया गया है कि भगवान शिव हमेशा धतूरे को आहार के रूप में प्रयोग करते हैं। समुद्र मंथन के दौरान जब भगवान शिव ने हलाहल विष पी लिया था तब वह काफी व्याकुल हो गए थे। तब धतूरे ने ही उनकी व्याकुलता दूर की थी।

6. घर नहीं आयेंगी बुरी शक्तियां

महाशिवरात्रि पर भोलेनाथ की पूजा में आप चांदी या तांबे के त्रिशुल और नाग का प्रयोग कर सकते हैं। नाग भगवान शिव के गले में हमेशा रहता है। पूजा के त्रिशुल और नाग को घर में स्थापना करें। इससे घर पर किसी भी तरह का नकारात्मक प्रभाव नहीं रहेगा।


व्रत की विधि

फाल्गुन कृष्ण पक्ष त्रयोदशी पर निराहार रहें। चतुर्दशी के अवसर पर, सुबह उपवास समाप्त करें। रात में घर में या कुंड में नदी में जाकर पवित्र स्नान करें। रुद्राक्ष को धोकर उपयोग करें। प्रदोषकाल में भगवान शिव के मंदिर में जाएं शिव पर चिंतन उसके बाद षोडशोपचार से देवी की पूजा करें। भवभावनी प्रीतिर्थ (यहाँ भव का अर्थ शिव है) नाम का जाप करते हुए भगवान शिव को एक सौ आठ कमल फूल चढ़ाए। यदि पूजा के गीत, आत्मा और मंत्र के गीत गाए जाते हैं, तो शिव के सिर पर उठाए गए फूलों को ले जाएं और उन्हें अपने सिर में रखें और शिव से माफी मांगें। “महाशिवरात्रि पर, अनमरगंजरी (आमों का एक समूह) भी प्रदान करते है।


इन चीजों से करें महादेव की पूजा, मिलेगा मनचाहा वरदान

1. चंदन: चंदन को बहुत पवित्र माना जाता है। कहते हैं कि ऐसा कहने से मन शांत रहता है। चंदन भगवान शिव का बहुत प्रिय है, इसलिए भोले शंकर को चंदन से शंखनाद करना पड़ता है।

2. हल्दी: भगवान शिव की पूजा करने में हल्दी का एक विशेष अर्थ है। इसे भगवान को अर्पित करने से भगवान शिव जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं।

3. धतूरा और बेल पत्र: भगवान शिव को बेल पत्र और धतूरा बहुत पसंद हैं। सोमवार और शिवरात्रि को इसे चढ़ाने से भगवान अपने उपासकों की हर मुराद पूरी करते हैं।

4. इत्र: भोले शंकर को प्रसन्न करने के लिए इत्र भी चढ़ाया जाता है। यहां तक कि इत्र भी भोले शंकर के समान है।


----------------------------------------------------


The festival usually falls every year on the 13th night/14th day in the Krishna Paksha of the month of Maagha (as per Shalivahana) or Phalguna (as per Vikrama) in the Hindu calendar. The festival is exclusively dedicated to Lord Shiva who is known by hundreds of names.

Maha Shivratri is the day to rejoice…to pray to the almighty for wellness. Almost all Hindus throughout the world offer prayers in the morning/evening and some observe fasting ( vrata) throughout the day. Most people visit the nearby temples of Shiva and offer prayers in large crowds.

The prayers and worship continue throughout the night and the devotees offer coconut, Bilva leaves, fruits and specially prepared sacred food to Shiva and his divine consort Parvati.

As this is a dark fortnight, devotees light candles and diyas (a lamp made usually of clay, with wick made of cotton and dipped in ghee) throughout the night – this is a symbol of spiritual manifestation.


Significance of Mahashivaratri :  

Shivji and mother Parvati were hitched upon the arrival of Phalgun Mass, going ahead Mahashivaratri. Thusly, this celebration is called Mahashivaratri. 

Step by step instructions to love Shiva Ji On this day, love of Shiva is done through the whole law. Just by offering a lotus water to Shiva, God satisfies the mankind. As per the Hindu religion, adoring Lord Shiva ought to be scorched by billapassa, nectar, milk, curd, sugar and ganga water. Your armada will be crossed by doing this.

A cruel and merciless tracker (bahlia), one day went chasing for chasing. In transit, he saw Shiva sanctuary. That day was Mahashivaratri. Consequently, the aficionados were seen showing up in love, songs, kirtan in Shiva sanctuary. 'Idiots who put stock in the stone are stating' Shiv Shiva 'and' Har ', in such a way they went into the timberland while doing ironical articulations. To discover the chase, he sat on a tree. But since of the leaves, he was not seen tricking. Thus, he began separating one leaf and tumbling down. While doing this demonstration, he was being called as Shiva, experiencing cold. The leaves of the leaves, which were separated, were falling on Shiva's pindi under the tree, which was not known to Baheli. Toward the beginning of the day she showed up a deer. The bahelia was going to shoot him, however the deer began asking him not to shoot the bolt. From that point onward, the aftereffect of wrongdoing left from that point. Jaagran of unwittingly, Mahashivaratri, because of reciting of Shalp and Shiva's reciting, Shiva's wrongdoing was pulverized and learning was likewise gotten. It is known from this story that Shiva is additionally extremely content with the love of Shiva who was likewise unwittingly!


6 Different ways to satisfy Shiva ji : 

God's eyes are before the billva: 

Before the eyes of God, you can utilize billapatha in the love of Lord Shiva on the goddess Mahashivaratri. The three-leaf billpath is of high repute to Shivaji. This is the primary spot in the love of Lord Shiva. It is accepted that the three leaves of the billpiece are images of Lord Shiva's three eyes. Following three years on Maha Shivaratri, Maha Yoga, useful letters of gift are gotten for riches improvement. 

Paternity lives:

In the event that you use sesame seeds and grain in love of Shiva, at that point the majority of your wrongdoings will end. Additionally the gift of the benefactors and the negative vitality will be expelled from the house. For poor people, the apparitions made by the phantoms will be seen seeing the sanctuary will be staggered. Awesome Powers 

With Awesome Forces:

You can utilize Bhasma in the love of Bholenath. Ruler Shiva is extremely dear to Bhima. It must be kept in the love of Lord Shiva on Shivratri. On the off chance that fasting is finished by the consuming of Shivling, at that point they get heavenly powers. 

The air of the house is certain:

You can utilize Rudraksha in the love of Lord Shiva on Mahashivaratri. Shiva and Rudraksha are equivalent words of one another. Rudraksh began from Lord Shiva's tear. By keeping Rudraksh in the house after love, the house condition is sanitized. 

Appear as eating routine as Shiva:

You can likewise utilize Dhatura in love of Shiva. It is said in the Puranas that Lord Shiva constantly utilized Dhatroo as a nourishment thing. During Lord Shiva, when Lord Shiva had taken light toxin, he turned out to be exceptionally irritated. At that point Dhatroo had conquered his diversion. 

Home won't bring terrible forces:

In the love of Bholenath on Mahashivaratri, you can utilize silver or copper trishul and snake. The snake is consistently in the throat of Lord Shiva. Build up Trishul and Nag of Puja in the house. There will be no negative effect on the house.


Law of fasting:

Be a piece of the Falgun Krishna side Triadshi. On the event of Chaturdasi, resolve the quick in the first part of the day. Make a holy shower by heading off to the waterway on the night or on the lake. Low maintenance Rudraksha. Go to Lord Shiva's Temple in Pradosal Meditate on Shiva. From that point forward, love Goddess Shodashopachar. Bhavbhavani Preetirth (Here Bhava implies Shiva). Offer one hundred eight lotus or billpath to Lord Shiva while reciting Nam Namr. Offer botanical wreaths, give however much as could reasonably be expected. In the event that the reciting of love, mind and reciting of the Mantra are taken, at that point take the blossoms which were raised on Shiva's head and put it on your head and apologize to Shiva. "On the Mahashivaratri, the aamarganjari (a lot of mangoes of mango) likewise offers.


Do these things with the love of Lord Mahadev 

1. Chandan is viewed as sacrosanct. It is said that by putting it, the mind resists the urge to panic. Chandan is unforgettable to Lord Shiva, so Bhole Shankar should make shoe of sandalwood. 

2. Turmeric: Turmeric has an extraordinary hugeness in the love of Lord Shiva. Master Shiva is satisfied to offer it to God. 

3. Datura and Bel Patra: Lord Shiva loves the letter of the letter and Datura. By offering these on Monday and Shivratri, God satisfies each supplication of His lovers. 

4. Fragrance is additionally offered to please Bhole Shankar. Indeed, even the aroma is extremely similar to Bhole Shankar.




 
 
 
Comments:
Subscribe for Newsletter
Photo Gallery
 
 
Festival SMS

BOLE AAYE AAPKE DWAR,

SANG LEKE SARA PARIVAR,

KARE AAPPE KHUSYON KI BAUCHAR,

AAJAYE AAPKE JIVAN MAIN BAHAR,

MUBARAK HO AAPKO SHIVRATRI KA TYOHAR

 
 
 
Copyright © MyGuru.in. All Rights Reserved.
Site By rpgwebsolutions.com