Home » Hindu Festivals Collection » Rama Ekadashi~राम एकादशी Festival

Rama Ekadashi~राम एकादशी


राम एकादशी को हिंदू पौराणिक ग्रंथो के अनुसार सबसे पवित्र और फलदायी एकादशियों में से एक माना जाता है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार, राम एकादशी कार्तिक माह में 11 वें दिन कृष्ण पक्ष के दौरान मनाई जाती है। इसे कार्तिक कृष्ण एकादशी या रंभा एकादशी के नाम से भी जाना जाता है और यह दिवाली समारोह से चार दिन पूर्व पड़ती है। राम एकादशी व्रत को हिन्दू धर्म में सबसे महत्वपूर्ण एकादशी व्रत के रूप में जाना जाता है, क्योंकि इस व्रत को रखकर भक्त अपने सभी पापों से मुक्त हो सकते हैं।


राम एकादशी का महत्व:

ब्रह्म-वैवर्त पुराण व् धर्म शास्त्रों के अनुसार, यह मान्यता प्राप्त है कि जो व्यक्ति इस पवित्र एकादशी व्रत को रखता है, उसे उसके सभी पापों से मुक्ति मिल जाती है | जो व्यक्ति राम एकादशी का पाठ सुनता है वह मोक्ष प्राप्त करता है और श्री हरि विष्णु के परम निवास तक पहुंच जाता है। यह भी कहा जाता है कि राम एकादशी का पालन करने का गुण 100 से अधिक राजसूय यज्ञ या 1000 अश्वमेध यज्ञ करने से भी अधिक होता है। राम एकादशी के दिन भगवान विष्णु की भक्तिभाव के साथ पूजा करने से, व्यक्ति अपने जीवन में सभी समस्याओ को दूर करने और अपार सफलता पाने सक्षम होगा।

 

राम एकादशी व्रत कथा

प्राचीन काल में मुचुकुंद नाम का एक राजा हुआ करता था। वे बहुत उदार, दयालु और पवित्र व्यक्ति थे। एकादशियों के व्रत में उनकी बड़ी आस्था थी। वह प्रत्येक एकादशी का व्रत रखते थे और उसने अपने राज्य के लोगों पर एक ही नियम लागू किया था।

उनकी एक बेटी थी जिसका नाम चंद्रभागा था जिसे राम एकादशी उपवास में बहुत आस्था था। उसका विवाह राजा चंद्रसेन के पुत्र शोभन से हुआ। जब एकादशी आई, तो शोभन ने बाकी सभी की तरह व्रत रखा। लेकिन कमजोरी और भूख के कारण उनकी अकाल मृत्यु हो गई। इसने चंद्रभागा, राजा और रानी सभी को निराश कर दिया। दूसरी ओर, शोभन, व्रत के प्रभाव से मंदराचल पर्वत पर देव-नगरी में गए, जहाँ उन्हें अप्सराओं (अप्सराये) द्वारा सेवा दी गई व् उनका खूब आदर - सत्कार किया गया |

एक दिन, राजा मुचुकुन्द मंदराचल पर्वत पर गए जहाँ उन्होंने अपने दामाद को देखा। उसने घर आकर अपनी बेटी को सारी बात बताई। यह सुनकर, वह अपने पति के पास गई और दोनों वही पर साथ रहने लगे व् देह त्याग वह वहीँ की हो गयी।

 

राम एकादशी के दौरान अनुष्ठान

उपवास के रीति रिवाज एकादशी से एक दिन पहले शुरू होता है अर्थात यह दशमी से आरम्भ हो जाते है। इस शुभ दिन पर, पालनकर्ता को अनाज या चावल का उपभोग करने की मनाही होती है और केवल सात्विक भोजन ग्रहण करने की अनुमति होती है। व्रत पालनकर्ता को सूर्योदय के पश्चात कुछ भी खाने की अनुमति नहीं होती है।

एकादशी की पूर्व संध्या पर, पालनकर्ता को पूरे दिन कुछ भी खाने या पीने से रोक दिया जाता है। व्रत की समाप्ति अगले दिन यानी चंद्र महीने के 12 वें दिन को परना के समय द्वादशी के रूप में होती है।

राम एकादशी की शुभ पूर्व संध्या पर, भक्त जल्दी उठते हैं, पवित्र स्नान करते हैं और फिर भगवान विष्णु की आरधना करते हैं।

पूजा के दौरान देवता को फूल, फल, विशेष भोग और अन्य आवश्यक चीजें चढ़ाई जाती हैं। एक बार पूजा पूरी होने के बाद, सभी श्रद्धालुओं को प्रसाद (पवित्र भोजन) वितरित किया जाता है।

इस दिन, भक्त रात भर जागते हैं और पूरी रात भगवान विष्णु की महिमा सुनकर और भजन गाकर और कीर्तन करते हुए बिताते हैं।

चूंकि यह शब्द देवी लक्ष्मी का प्रतिनिधित्व करता है, इसलिए भक्त इस दिन देवी लक्ष्मी की पूजा भी करते हैं। भक्तों ने आधी रात के दौरान भगवद गीता का पाठ भी किया जाता है ।

 




Rama Ekadashi is considered one of the most sacred and fruitful Ekadashis according to Hindu mythological texts. According to the Hindu calendar, Rama Ekadashi is celebrated on the 11th day in the month of Kartik during Krishna Paksha. It is also known as Kartik Krishna Ekadashi or Rambha Ekadashi and falls four days before the Diwali celebrations. Rama Ekadashi fast is known as the most important Ekadashi fast in Hinduism, because by keeping this fast, devotees can get rid of all their sins.

 

Importance of Rama Ekadashi:

According to the Brahma-Vaivarta Purana and the Dharma Shastras, it is recognized that a person who observes this holy Ekadashi fast gets freedom from all his sins. The person who hears the recitation of Rama Ekadashi attains salvation and can reach the ultimate abode of Shri Hari Vishnu. It is also said that observance of Rama Ekadashi is more than performing more than 100 Rajasuya Yajna or 1000 Ashwamedha Yagna. By worshiping Lord Vishnu with devotion on the day of Rama Ekadashi, a person will be able to overcome all the problems in his life and achieve immense success.

 

Rama Ekadashi Fasting Story

In ancient times there used to be a king named Muchukunda. He was a very generous, kind and pious man. He had great faith in Ekadashi fasting. He fasted for each Ekadashi and applied the same rule to the people of his kingdom.

They had a daughter named Chandrabhaga who had great faith in Ram Ekadashi fasting. He is married to King Chandrasen's son Shobhan. When Ekadashi came, Shobhan fasted like everyone else. But he died prematurely due to weakness and hunger. This disappointed Chandrabhaga, the king and the queen all. Shobhan, on the other hand, went to Dev-nagari on the Mandarachal mountain under the influence of fast, where he was served and highly respected by the Apsaras (Apsaraye).

One day, King Muchukund went to Mount Mandarachal where he saw his son-in-law. He came home and told his daughter everything. Hearing this, she went to her husband and both of them started living together and she gave up her body.

 

Ritual during Rama Ekadashi

The Ritual of fasting begins one day before Ekadashi i.e. it starts from Dashami. On this auspicious day, the follower is forbidden to consume grains or rice and is allowed to eat only satvik food. The fast observer is not allowed to eat anything after sunrise.

On the eve of Ekadashi, the follower is prohibited from eating or drinking anything throughout the day. The fast ends on the next day i.e. on the 12th day of the lunar month as Dwadashi at the time of Parana.

On the auspicious eve of Rama Ekadashi, devotees get up early, take a holy bath and then pray to Lord Vishnu.

During the puja, flowers, fruits, special enjoyment and other essential things are offered to the deity. Once the pooja is completed, Prasad (sacred food) is distributed to all the devotees.

On this day, devotees wake up overnight and spend the entire night listening to the glory of Lord Vishnu and singing bhajans and performing kirtans.

Since the word represents Goddess Lakshmi, devotees also worship Goddess Lakshmi on this day. Devotees also recite Bhagavad Gita during midnight.

 
 
 
Comments:
Subscribe for Newsletter
 
 
 
 
 
Copyright © MyGuru.in. All Rights Reserved.
Site By rpgwebsolutions.com