Subscribe for Newsletter
Sant Ravidas

Sant Ravidas

Sant Ravidas
Guru Ravidass (also Raidas, Rohidas and Ruhidas in eastern India) was a North Indian Sant mystic of the bhakti movement who was active in the 15th century CE. Venerated in the region of Uttar Pradesh as well as the Indian state of Maharashtra, his devotional songs and verses made a lasting impact upon the bhakti movement. He is often given the honorific Bhagat or Sant. He was a socio-religious reformer, a thinker, a theosophist, a humanist, a poet, a traveler, a pacifist and a spiritual figure before whom even head-priests of Benaras lay prostrate to pay homage.

He was a shoemaker of the Kutbandhla Chamar caste. His devotional songs were included in the Sikh holy book, the Adi Granth, by the fifth Sikh Guru, Guru Arjan Dev. There is also a larger body of hymns passed on independently that is claimed and attributed to Ravidas by some. Ravidas was subversive in that his devotionalism implied a leveling of the social divisions of caste and gender, yet ecumenical in that it tended to promote crossing of sectarian divides in the name of a higher spiritual unity.

He taught that one is distinguished not by one's caste (jāti) but by one's actions (karma) and that every person has the right to worship God and read holy texts. He opened a frontal attack against the system of Untouchability. He rejected the tradition of Brahmin mediator to reach the Supreme Being. He also said that one need not to hide his caste or leave his low profession to reach God. He became a model for his fellow beings to overcome the hierarchical barriers of Brahminical social order and to establish Begumpura - a state without fear and sorrows. Guru Ravidass elevated the status of the labour by emphasizing on the fact that honest labour is empowering.

Background
The details of Guru Ravidass' life are controversial. According to some he was born in 1376/7 or else 1399 CE but many scholars offer later dates. Schaller estimates his lifespan as 1450–1520. Partly this is due to traditions that make him, the guru of Meera (according to a song attributed to her:  "guru miliyaa raidasjee"). However, as Schaller points out, the importance of such claims lies in their establishing the authority of a lineage of gurus (parampara). One may count oneself a disciple of a master without having actually met him.

His origin and parents are also given differently. According to history he was born in a village named Seer Govardhanpur, near Varanasi in Uttar Pradesh, India. His father Baba Santokh Das was a Chamar leather merchant and Mata Kalsa Devi was his mother. His father married Ravidass to Mata Lona Devi at early age and according to the Ravidas Purana he had a son named Vijaydas. A region between Allahabad and Benares is named after him.

The queen of Chittorgarh is said to have been a disciple (this may be connected with Meera, who was married to the ruler of Chittorgarh). It is said that the conservative Brahmins of Kashi could not stand the popularity of this "untouchable saint". A complaint was made to the king that he was working against age-old norms of social order (varnashrama dharma) - a cobbler was not supposed to talk of God or do work of advising or teaching. The ruler arranged for an assembly of learned men. Ravidas was also invited and was felicitated publicly. A procession was arranged (shobha yatra) and the king himself participated.
Begumpura Shehr

Begumpura ("land without sorrow") is a term coined in a poem by Guru Ravidass. Begampura is the name of an idealized city where there is no suffering or fear, and all are equal. The verse is seen as reflecting both a sense of poverty and caste humiliation, and a desire to find a utopia without suffering:

    The regal realm with the sorrowless name
    they call it Begumpura, a place with no pain,
    no taxes or cares, none owns property there,
    no wrongdoing, worry, terror, or torture.
    Oh my brother, I've come to take it as my own,
    my distant home, where everything is right...
    They do this or that, they walk where they wish,
    they stroll through fabled palaces unchallenged.
    Oh, says Ravidas, a tanner now set free,
    those who walk beside me are my friends.


Guru Ravidass and Meera Bai
Meera Bai considered Guru Ravidass as her spiritual Guru. Meera Bai was a queen of Chittor and a daughter of the king of Rajasthan and she used to follow the teachings of Guru Ravidass which teaches about that one's fate of the future lies on his karmas (doings) rather than on his caste or creed's.

Guru Ravidass incidence of life has become the inspiration for the people of today and in one such incident when Guru Ravidass's disciples were going to take holy dip in the sacred river ganges and wanted Guru Ravidass to accompany them and Guru replied that he has promised to deliver shoes to his customer on that particular day and will not be able to join them due to this particular reason and when one of his disciple urges then Guru Ravidass uttered his belief saying that: “Man changa tow kathoti mein Ganga“ i.e. That is if your heart is pious then the holy river is right in your tub and you need not go anywhere else to take a dip. There is a small chhatri (umbrella) in front of Meera’s temple in Chittorgarh district of Rajasthan. It has guru Ravidass’ engraved foot print also. As a respect to her guru, Meera Bai once wrote:
“Guru Milyaa Raidaasji …”

Ravidassia religion and relation with Sikhism
Guru Nanak Dev fulfilled Guru Ravidass's request by accepting a collection of Guru Ravidass' verses and poems. The earliest collection of these poems are available in the Sikh scriptures, Guru Granth Sahib (the Sikh holy book). It was complied by Arjan Dev, the fifth guru of the Sikhs. It contains 41 verses by Guru Ravidass.

In the 20th century, syncretic followers of Ravidas' teachings, who may have identified as Sikh, Hindu, or simply "Ravidasi" began to coalesce. Following the murder of their cleric Ramanand Dass in Vienna in 2009, this movement declared itself to be a religion fully separate from Sikhism, and now known as the Ravidassia religion. The Ravidassia religion compiled a new holy book, Amritbani Guru Ravidass Ji. Based entirely on the writings and teaching of Guru Ravidass, it contains 240 hymns and all Ravidassias temples utilize it.

Songs and teachings
View of Sri Guru Ravidass Park, Varanasi

तोही मोही मोही तोही अंतरु कैसा ॥ कनक कटिक जल तरंग जैसा ॥१॥
जउ पै हम न पाप करंता अहे अनंता ॥ पतित पावन नामु कैसे हुंता ॥१॥ रहाउ ॥
तुम्ह जु नाइक आछहु अंतरजामी ॥ प्रभ ते जनु जानीजै जन ते सुआमी ॥२॥
सरीरु आराधै मो कउ बीचारु देहू ॥ रविदास सम दल समझावै कोऊ ॥३॥


ਤੋਹੀ ਮੋਹੀ ਮੋਹੀ ਤੋਹੀ ਅੰਤਰੁ ਕੈਸਾ ॥ ਕਨਕ ਕਟਿਕ ਜਲ ਤਰੰਗ ਜੈਸਾ ॥੧॥
ਜਉ ਪੈ ਹਮ ਨ ਪਾਪ ਕਰੰਤਾ ਅਹੇ ਅਨੰਤਾ ॥ ਪਤਿਤ ਪਾਵਨ ਨਾਮੁ ਕੈਸੇ ਹੁੰਤਾ ॥੧॥ ਰਹਾਉ ॥
ਤੁਮ੍ਹ੍ਹ ਜੁ ਨਾਇਕ ਆਛਹੁ ਅੰਤਰਜਾਮੀ ॥ ਪ੍ਰਭ ਤੇ ਜਨੁ ਜਾਨੀਜੈ ਜਨ ਤੇ ਸੁਆਮੀ ॥੨॥
ਸਰੀਰੁ ਆਰਾਧੈ ਮੋ ਕਉ ਬੀਚਾਰੁ ਦੇਹੂ ॥ ਰਵਿਦਾਸ ਸਮ ਦਲ ਸਮਝਾਵੈ ਕੋਊ ॥੩॥

    You are me, and I am You-what is the difference between us? We are like gold and the bracelet, or water and the waves.
    If I did not commit any sins, O Infinite Lord,how would You have acquired the name, Patit-Pavan (Redeemer of sinners)?
    You are my Master, the Inner-knower, Searcher of hearts.The servant is known by his God, and the Lord and Master is known by His servant.
    Grant me the wisdom to worship and adore You with my body.
    O Ravi Daas, one who understands that the Lord is equally in all, is very rare.


संत कुलभूषण कवि रैदास उन महान् सन्तों में अग्रणी थे जिन्होंने अपनी रचनाओं के माध्यम से समाज में व्याप्त बुराइयों को दूर करने में महत्वपूर्ण योगदान किया। इनकी रचनाओं की विशेषता लोक-वाणी का अद्भुत प्रयोग रही है जिससे जनमानस पर इनका अमिट प्रभाव पड़ता है। मधुर एवं सहज संत रैदास की वाणी ज्ञानाश्रयी होते हुए भी ज्ञानाश्रयी एवं प्रेमाश्रयी शाखाओं के मध्य सेतु की तरह है।
प्राचीनकाल से ही भारत में विभिन्न धर्मों तथा मतों के अनुयायी निवास करते रहे हैं। इन सबमें मेल-जोल और भाईचारा बढ़ाने के लिए सन्तों ने समय-समय पर महत्वपूर्ण योगदान दिया है। ऐसे सन्तों में रैदास का नाम अग्रगण्य है। वे सन्त कबीर के गुरूभाई थे क्योंकि उनके भी गुरु स्वामी रामानन्द थे।

जीवन
आज(२ सितम्बर २००९) से लगभग छ: सौ बत्तीस वर्ष पहले भारतीय समाज अनेक बुराइयों से ग्रस्त था। उसी समय रैदास जैसे समाज-सुधारक सन्तों का प्रादुर्भाव हुआ। रैदास का जन्म काशी में चर्मकार कुल में हुआ था। उनके पिता का नाम संतो़ख दास (रग्घु) और माता का नाम कर्मा देवी बताया जाता है। रैदास ने साधु-सन्तों की संगति से पर्याप्त व्यावहारिक ज्ञान प्राप्त किया था। जूते बनाने का काम उनका पैतृक व्यवसाय था और उन्होंने इसे सहर्ष अपनाया। वे अपना काम पूरी लगन तथा परिश्रम से करते थे और समय से काम को पूरा करने पर बहुत ध्यान देते थे। Ravidas cast is Bairwa.

उनकी समयानुपालन की प्रवृति तथा मधुर व्यवहार के कारण उनके सम्पर्क में आने वाले लोग भी बहुत प्रसन्न रहते थे।

प्रारम्भ से ही रैदास बहुत परोपकारी तथा दयालु थे और दूसरों की सहायता करना उनका स्वभाव बन गया था। साधु-सन्तों की सहायता करने में उनको विशेष आनन्द मिलता था। वे उन्हें प्राय: मूल्य लिये बिना जूते भेंट कर दिया करते थे। उनके स्वभाव के कारण उनके माता-पिता उनसे अप्रसन्न रहते थे। कुछ समय बाद उन्होंने रैदास तथा उनकी पत्नी को अपने घर से अलग कर दिया। रैदास पड़ोस में ही अपने लिए एक अलग झोपड़ी बनाकर तत्परता से अपने व्यवसाय का काम करते थे और शेष समय ईश्वर-भजन तथा साधु-सन्तों के सत्संग में व्यतीत करते थे।

स्वभाव
उनके जीवन की छोटी-छोटी घटनाओं से समय तथा वचन के पालन सम्बन्धी उनके गुणों का पता चलता है। एक बार एक पर्व के अवसर पर पड़ोस के लोग गंगा-स्नान के लिए जा रहे थे। रैदास के शिष्यों में से एक ने उनसे भी चलने का आग्रह किया तो वे बोले, गंगा-स्नान के लिए मैं अवश्य चलता किन्तु एक व्यक्ति को जूते बनाकर आज ही देने का मैंने वचन दे रखा है। यदि मैं उसे आज जूते नहीं दे सका तो वचन भंग होगा। गंगा स्नान के लिए जाने पर मन यहाँ लगा रहेगा तो पुण्य कैसे प्राप्त होगा ? मन जो काम करने के लिए अन्त:करण से तैयार हो वही काम करना उचित है। मन सही है तो इसे कठौते के जल में ही गंगास्नान का पुण्य प्राप्त हो सकता है। कहा जाता है कि इस प्रकार के व्यवहार के बाद से ही कहावत प्रचलित हो गयी कि - मन चंगा तो कठौती में गंगा।

रैदास ने ऊँच-नीच की भावना तथा ईश्वर-भक्ति के नाम पर किये जाने वाले विवाद को सारहीन तथा निरर्थक बताया और सबको परस्पर मिलजुल कर प्रेमपूर्वक रहने का उपदेश दिया।
वे स्वयं मधुर तथा भक्तिपूर्ण भजनों की रचना करते थे और उन्हें भाव-विभोर होकर सुनाते थे। उनका विश्वास था कि राम, कृष्ण, करीम, राघव आदि सब एक ही परमेश्वर के विविध नाम हैं। वेद, कुरान, पुराण आदि ग्रन्थों में एक ही परमेश्वर का गुणगान किया गया है।

    कृस्न, करीम, राम, हरि, राघव, जब लग एक न पेखा। वेद कतेब कुरान, पुरानन, सहज एक नहिं देखा।।

उनका विश्वास था कि ईश्वर की भक्ति के लिए सदाचार, परहित-भावना तथा सद्व्यवहार का पालन करना अत्यावश्यक है। अभिमान त्याग कर दूसरों के साथ व्यवहार करने और विनम्रता तथा शिष्टता के गुणों का विकास करने पर उन्होंने बहुत बल दिया। अपने एक भजन में उन्होंने कहा है-

    कह रैदास तेरी भगति दूरि है, भाग बड़े सो पावै। तजि अभिमान मेटि आपा पर, पिपिलक हवै चुनि खावै।

उनके विचारों का आशय यही है कि ईश्वर की भक्ति बड़े भाग्य से प्राप्त होती है। अभिमान शून्य रहकर काम करने वाला व्यक्ति जीवन में सफल रहता है जैसे कि विशालकाय हाथी शक्कर के कणों को चुनने में असमर्थ रहता है जबकि लघु शरीर की पिपीलिका (चींटी) इन कणों को सरलतापूर्वक चुन लेती है। इसी प्रकार अभिमान तथा बड़प्पन का भाव त्याग कर विनम्रतापूर्वक आचरण करने वाला मनुष्य ही ईश्वर का भक्त हो सकता है।

रैदास की वाणी भक्ति की सच्ची भावना, समाज के व्यापक हित की कामना तथा मानव प्रेम से ओत-प्रोत होती थी। इसलिए उसका श्रोताओं के मन पर गहरा प्रभाव पड़ता था। उनके भजनों तथा उपदेशों से लोगों को ऐसी शिक्षा मिलती थी जिससे उनकी शंकाओं का सन्तोषजनक समाधान हो जाता था और लोग स्वत: उनके अनुयायी बन जाते थे।

उनकी वाणी का इतना व्यापक प्रभाव पड़ा कि समाज के सभी वर्गों के लोग उनके प्रति श्रद्धालु बन गये। कहा जाता है कि मीराबाई उनकी भक्ति-भावना से बहुत प्रभावित हुईं और उनकी शिष्या बन गयी थीं।

    वर्णाश्रम अभिमान तजि, पद रज बंदहिजासु की। सन्देह-ग्रन्थि खण्डन-निपन, बानि विमुल रैदास की।।

आज भी सन्त रैदास के उपदेश समाज के कल्याण तथा उत्थान के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण हैं। उन्होंने अपने आचरण तथा व्यवहार से यह प्रमाणित कर दिया है कि मनुष्य अपने जन्म तथा व्यवसाय के आधार पर महान नहीं होता है। विचारों की श्रेष्ठता, समाज के हित की भावना से प्रेरित कार्य तथा सद्व्यवहार जैसे गुण ही मनुष्य को महान बनाने में सहायक होते हैं। इन्हीं गुणों के कारण सन्त रैदास को अपने समय के समाज में अत्यधिक सम्मान मिला और इसी कारण आज भी लोग इन्हें श्रद्धापूर्वक स्मरण करते हैं।

दोहे

जाति-जाति में जाति हैं, जो केतन के पात ।
रैदास मनुष ना जुड़ सके जब तक जाति न जात ।।
मन चंगा तो कठौती में गंगा |


 
 
Comments:
 
Posted Comments
 
"Very useful information about Sant Ravidash ji thanks a lot."
Posted By:  Rahul Regar
 
"ravidasji ki bare me kuch information nahi thi.padhkar bahut khushi hui"
Posted By:  pradeep tukaram suryawanshi
 
"गुरु रोहिदास महाराज कि जय "
Posted By:  अनिल काकडे [anil kakade] kalyan[maharashtra]
 
"jai ravidas ji ki aap sach me mahan vyakti the aap ki jai ho "
Posted By:  Raja chouhan
 
"JAY RAVIDAS "
Posted By:  ajay waghmare
 
 
Ringtones
 
Vastu Tips
  Directions and their appropriate use in home
  Sleeping positions and directions
  Vastu for Hotels
  आसान वास्तू टिप्स
  Vastu Advice for Career
  Ganesha in Vastu
  कुछ उपयोगी वास्तु टिप्स
  Origin Of Vaastushastra
 
Copyright © MyGuru.in. All Rights Reserved.
Site By rpgwebsolutions.com